You have entered the world of InnerSoul …!


You’ll find positive, Motivational thoughts... In poetry few are written by Me n others too & Some r Translated also. I feel that thoughts heighten the awareness of our feelings & world around us.

शुक्रिया ...

यह पोस्टिंग पढने के लीये "design" पर क्लिक करें ...!

15 comments:

નીતા કોટેચા said...

bahot badhiyaa...

रश्मि प्रभा... said...

pyaar,ehsaas,khushi vastwik swaroop mein shabdon se upar hote hain,jinhe sirf mahsoos kiya jaa sakta hai........
bahut uchchstariye bhaw

दिगम्बर नासवा said...

किसी के होने के ehsaas को khoobsoorat shabdon में sajaaya है ........... lajawaab

HARI SHARMA said...

नेह के रिश्तो़ को जिस कोमलता के साथ स्वीकार किया और दुलारा है सचमुच अद्भुत है. किसी का होना और किसी किसी क हो जना भी तो एक अह्सास ही तो है.

कुलदीप "अंजुम" said...

wahhhh...
dil ko chu jane vale ahsas

ajitji said...

bahut sundar
prem aur uski abhivyakti ka sundar chitran

anu said...

हम्म सुक्रिया की तुम मेरी भी दोस्त हो ..क्या लिखू और कितना ..सब कम है रे ..जिस तरह सिर्फ खाना पकाने से काम नहीं चलता उसको अच्छे से परोसना भी एक कला है .ठीक वैसे तुम अपनी कविताये तो लिखती ही अच्छी हो उसको जिस तरह पेस करती हो वो भी तारीफे काबिल है गोलू ..अब तुम्हारे लिए हर सब्द कम लगते है ..ऐसे ही और अच्छे और अच्छी कविताये लिखो यही कामना है सुक्रिया

anu said...

हम्म सुक्रिया की तुम मेरी भी दोस्त हो ..क्या लिखू और कितना ..सब कम है रे ..जिस तरह सिर्फ खाना पकाने से काम नहीं चलता उसको अच्छे से परोसना भी एक कला है .ठीक वैसे तुम अपनी कविताये तो लिखती ही अच्छी हो उसको जिस तरह पेस करती हो वो भी तारीफे काबिल है गोलू ..अब तुम्हारे लिए हर सब्द कम लगते है ..ऐसे ही और अच्छे और अच्छी कविताये लिखो यही कामना है सुक्रिया

संत शर्मा said...

Manobhawo ki sundar avivyaqti.

कुलदीप "अंजुम" said...

kuch hai jo dil mein muskurata hai
vala stanza kitna khoobsurat hai
wahhhh
sachmuch
pure an se likha gaya hai

M.L.S said...

baahut gahraai se ehsaas ko shabdo me dhala hai.kavita ki theme bhi do hai .background ne kavita ke bhavo ko doguna kar diya hai.badhai.

kavita said...

bahot hi pyar bhare ahsas hai preeti...
shabd aur soch se pare....
sundarabhivyakti pyare ahsaso ki...

love uu

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

आप को ब्लाग सबसे अलग लगा...कविता तो अच्छी है ही....आप ने अपने ब्लाग को किस तरह सजा रखा है वाह...क्या इसका राज हमें भी बतायेंगी कि कैसे क्लिक से पाठ्य रचना आ जाती है?कैसे इसे सुन्दर बैकग्राउण्ड में लिखते हैं?

satish kundan said...

bahut khubsurat panktiyan jo sidhe dil ko chhuti hai...mujhe aapka blog bahut achha laaga...mere blog par aapka swagaat hai...

श्रद्धा जैन said...

bahut achhi dil se nikli hui kavita ke liye badhayi