You have entered the world of InnerSoul …!


You’ll find positive, Motivational thoughts... In poetry few are written by Me n others too & Some r Translated also. I feel that thoughts heighten the awareness of our feelings & world around us.

value ...


4 comments:

रश्मि प्रभा said...

इसे समझ लिया,जीवन पा लिया......
.......
कभी दिल ना लगे,
कोई बात ना मिले,
दसों दिशाएँ स्तब्ध हों,
सूर्य क्षितिज में डूबता लगे,
मन में अंधेरों की बारिश सी हो-
..............
अनजानी दिशा में आवाज़ देना खुद को,
प्रतिध्वनि बन वह तुम्हारे पास आएगी
हमसफ़र बन सूरज के रथ का स्वागत करेगी
दसों दिशाओं में मंगलाचार बन प्रकाश का आह्वान करेगी.........
विश्वास ना हो तो आजमा लो
तुम्हारा 'स्व' कितना शक्तिशाली

Preeti Mehta said...

thanx Didi...

गिरीश बिल्लोरे "मुकुल" said...

Sach kitane gaharee soch hai apakee

Ram said...

iswar ka dusrna nam dosti hai.....

दोस्ती शायद ज़िंदगी होती है
जो हर दिल में बसी होती है
वैसे तो जी लेते है सभी अकेले मगर,
फिर भी ज़रूरत इनकी हैर किसी को होती है

तन्हा हो कभी तो मुझको ढुँदना
दुनिया से नही अपने दिल से पूछना,
आस पास ही कही बसे रहते है
यादों से नही साथ गुज़रे लम्हो से पूछना..!!

ख़वाईश ही नही अल्फ़ाज़ की,
चाहत को तो ज़रूरत है बस एहसास की,
पास होते तो मंज़र ही क्या होता,
दूर से ख़बर है हुमए आपकी हर साँस की..!!

दिल जीत ले वो जिगर हम भी रखते है
कतल कर दे वो नज़र हम भी रखते है
आपसे वादा है हुमारा हमेशा मुस्कराने का,
वरना आँखो में समुंदर हम भी रखते है

प्यार आ जाता है आँखों में रोने से पहले,
हर ख़वाब टूट जाता है सोने से पहले,
इश्क़ है गुनाह एह तो समझ गाये
काश कोई रोक लेता एह गुनाह होने से पहले..!!

पलकों से उठा के ये ख़वाब,
सजाए है क़दमों में तेरे,
संभाल के रखना क़दम,
न जानू की कौन हूँ मैं,
लोग कहते है सबसे जुदा हूँ मैं,
मुझे तो प्यार हैं सब से,
पर, पता नही कितने प्यार करते हैं मुझसे,
मुश्किलो में फसने कि आदत मेरी,
बेवज़ह सपने देखने कि आदत मेरी।

मैं तो हूँ ही मनचला,
जो मन किया उसी राह पर चल पड़ा,
आसमान से लगता नही है डर,
मुश्किले आयेगी बहुत मगर,
ज़मीन पर चलना भी नही चाहता,
मैं तो बस सबसे अलग बनना चाहता।

फिर भी पता नही हैं जाना कहाँ हैं,
कुछ रास्ते तो दिख रहे हैं,
पर लक्ष्य लापता हैं,
और अगर यहीं जिन्दगी हैं,
तो वो भी मिलेगी यहीं कहीं,
मैं तो हूँ ही, तेरी तलाश में।

मेरे साथ कुछ कदम चलो तुम ज़रा,
पता नही है मेरे हमसफर का,
काश के ये जवाब हम जान पाते,
तुम्हे अपने दिल कुछ जगह दे पाते,
फिर न रहते हम अकेले,
जो साथ तुम कभी चलते।

जाते जाते समय की रेत पर,
कुछ निशान छोड़ कर जाऊंगा,
दुनिया याद करे ऐसी पहचान ,
बन कर दिखाऊंगा,
मै हर दिल मे, याद बनके ज़िंदा रह जाऊंगा,
मै हर दिल मे, याद बनके ज़िंदा रह जाऊंगा।