You have entered the world of InnerSoul …!


You’ll find positive, Motivational thoughts... In poetry few are written by Me n others too & Some r Translated also. I feel that thoughts heighten the awareness of our feelings & world around us.

तेरी ही पहचान हूँ ...







9 comments:

Jyotsna Pandey said...

तुम्हारी कलात्मकता ह्रदय है तो दीदी की रचना स्पंदन .................
बहुत सुन्दर है दोनों का साथ .............
मेरी शुभकामनाएं प्यार के साथ !!

નીતા કોટેચા said...

तुम दोस्ती के रूप में.. इश्वर का हमें दिया हुवा तोहफा हो.
जो हमें संभाल के रखना है..
और तुम्हें भी ....

रश्मि प्रभा said...

मुझे अपनी पहचान मिली,
तुमने मेरे शब्दों को जीवंत कर दिया,
सारे एहसास सिमट आए हैं .........

ρяєєтι said...

bade B ji, आप् के तो शब्द बोलते है, नाचते है, वोह तो पहले से जीवित थे , और पहचान ? वोह तो हमें मिली ... है ना ?

Anonymous said...

grt...keep it up

Dr. RAMJI GIRI said...

प्रकृति से मानव-मात्र की पहचान पर सुन्दर हस्ताक्षर..

Endurance said...

बहुत सुंदर .......शब्द और उन्हें सजाने का हुनर ...
खुश रहिये !!!

विक्रांत बेशर्मा said...

बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति है !!!!!!!!!

योगेन्द्र मौदगिल said...

Wahwa
kavita to behtar hai hi blog bahut sunder hai aapka