You have entered the world of InnerSoul …!


You’ll find positive, Motivational thoughts... In poetry few are written by Me n others too & Some r Translated also. I feel that thoughts heighten the awareness of our feelings & world around us.

रिश्ता - एहसासों का ...

यह पोस्टिंग पढने के लीये "design" पर क्लिक करें ...!

20 comments:

kavita said...

wow...very touching.....
bahot hi khubsurat aur pyar se paripurn ahsas ....

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

दिल के जज्बातों से सजी
यह एक अच्छी क्षणिका है।
बधाई।

अर्चना तिवारी said...

बहुत सुंदर कविता जज्बातों से भरी...पर कुछ शब्द सही कर लें वर्ना कविता का मजा जा रहा है जैसे 'धुप, कूछ, शाथ,भीड इत्यादि

श्यामल सुमन said...

रचना के इस भाव संग चित्र बहुत है खास।
प्रीति के इस प्रेम का सुखद लगा एहसास।।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com
shyamalsuman@gmail.com

kavita rathi said...

bahot hi sundar aur pyar bhare ahsaso hai...
dil ko chhu liya in ahsaso ne tumhari tarah...

love uuu

रश्मि प्रभा... said...

बहुत कुछ कहती रचना........यूँ कहें पूरा मन है

HARI SHARMA said...

बहुत कोमल भाब है. रिश्तो को सहेजने को
प्रेरित करते है.

M.L.Sharma said...

saral bhasha me sundar kavita likhna bahut badi kala hai .bhav bahut acche hai , background coloured hona chahiye thi .

कुलदीप "अंजुम" said...

sach hi kaha hai
rishte humesha hi sath dete hain agar sachhe hon to
ek achhi laghu kavita

anubhooti said...

अहसासों कि अनुभूति हृदयहीनों को नहीं होती . बाकि सभी को होती है.

Anonymous said...

bahut hi achche ahsaas hain preeti ji,,,,,,, aakhir prem ki anubhooti aise hi hoti hai......

Ajit Tripathi

Prem Farrukhabadi said...

bhavuktapoorn rachna badhai!

Mahesh said...

ek dam sachhai ,komal bhavnae ,uttam chitran ..........congratssssssss

संत शर्मा said...

Ehsas yahi hota hai,
Hum The,
Hum Hai,
Hum Rahenge Sada.

Bahut Sundar, aur ek sach bhi.

. said...

good one keep it up

preeti said...

रिश्ता......एहसास दे गया.........मन के जज्बातों को हवा दे गया ....रिश्तों के एहसास को तुमने सही तरह से समझ कर लिखा..अपने मन कि भावनाओ को उकेरा है.....

दर्पण साह "दर्शन" said...

hum teh...
hum hai...
hum raheinge sada !!

sahi kaha ji aapne !!

अर्शिया अली said...

Dil ko chhu gaye ye rachna.
{ Treasurer-T & S }

sangeeta said...

khoobsurat rishta....badhai

AMIT said...

.....मौसम बोलता है!!
चुप कड़ी चारो दिशायें
अधर पर स्मित छुपाये
तोड़ कर अब मौन-
"मौसम बोलता है"

ओ अछूते पुष्प आओ
सुरभि तुमको बाँट दू मैं
तितलियों की पांख पर कुछ
बुंदकियाँ भी टांक दू मैं!

भृंग मधुमय गीत गाये
नेह की मदिरा लुटाये
अब हठीला पवन-
"बंधन खोलता है"!!
..... मौसम बोलता है!!

झर गए जो पात तन से
शाख दुःख न तनिक करना
कर रहा पतझर ठिठोली
दीर्घ जीवन क्षणिक मरना,

गेह निज फिर - फिर बुलाये
लो पुनः नव पर्ण आये,
अब मुकुल घट में नवल-
"रस घोलता है"!
.....मौसम बोलता है!!

मैं हुआ उन्मत्त बसुधे
तुम जरा आँचल पसारो
ओ गगन तुम तनिक झुक कर
प्रियतमे! कहकर पुकारो,

दिवस को साक्षी बनाए
या मिलन की रात लायें,
मन तराजू सा लरजता-
"तोलता है"
..... मौसम बोलता है!!

"असीम"